mmmmmmmmmmmmmmmmmmmmm

भारतीय सेना लगातार अपनी सैन्य ताकत में इजाफा यानि तरक्की कर रही है . देश के भारतीय वैज्ञानिक भी एक के बाद एक रक्षा के क्षेत्र में, सेना को मजबूत बनाने के लिए नई नई इबारतें लिख रहे हैं . ऐसा करने के पीछे भारत केवल एक ही तर्क देता है, कि ऐसी खतरनाक मिसाइलों का प्रयोग हिन्दुस्तान केवल और केवल आत्मरक्षा के लिए करेगा. इसके इलावा भारत की तीनों सेनाएं भी एक से बढ़कर एक अपने खेमें में जंगी हथियार जोड़ रहीं है .

फिर चाहे वो एयर फोर्स के लड़ाकू विमान और मिसाइले हों या फिर नेवी के जंगी जलपोत हो . इसके साथ ही थल सेना के लिए तोपों को भी जंगी बेड़े में शामिल किया जा रहा है . इससे साफ जाहिर होता है, कि हमारी सेनाएं युद्ध कौशल के साथ साथ युद्ध में फतह हासिल करने के लिए भी खुद को तैयार कर रही है . गौरतलब है, कि भारतीय वैज्ञानिक भी एक के बाद एक नई मिसाइलों को इजाद कर भारतीय सेना को मजबूती देने की कोशिश कर रहे हैं . गौरतलब है,कि आधुनिक तकनीकी से लैस मिसाइलों को बनाया जा रहा है और सेना को मजबूत करने के इरादे से इन मिसाइलों को सेना में शामिल भी किया जा रहा है .

आपको बता दे कि हाल ही में कई नयी मिसाइले तैयार हुई हैं और पहले से भी कई मिसाइले सेना की ताकत की पहचान बनी हुई हैं . तो आज हम आपको उन्ही मिसाइलों के बारे में बताएंगे कि कैसे वो दुश्मन के किले को भी भेद सकतीं हैं . अगर सूत्रों और मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन पिछले कई सालों से ही सूर्य मिसाइल सिस्टम पर काम कर रहे है . वैसे बताया तो ये भी जा रहा है, कि इस मिसाइल का परीक्षण वर्ष 2017 में होने की उम्मीद है . साथ ही आपको ये भी बता दे कि भारत की सूर्य मिसाइल दुनियां की सबसे खास मिसाइल है .

loading…


http://nationfirst.online/wp-content/uploads/2017/01/mmmmmmmmmmmmmmmmmmmmm.jpghttp://nationfirst.online/wp-content/uploads/2017/01/mmmmmmmmmmmmmmmmmmmmm-150x150.jpgadminspecialटॉप 10भारतीय सेना लगातार अपनी सैन्य ताकत में इजाफा यानि तरक्की कर रही है . देश के भारतीय वैज्ञानिक भी एक के बाद एक रक्षा के क्षेत्र में, सेना को मजबूत बनाने के लिए नई नई इबारतें लिख रहे हैं . ऐसा करने के पीछे भारत केवल एक ही तर्क...nation first, truly Indian