कुछ महीने पहले इस रेल रूट ने 100 साल पूरे किए हैं।

भारत 70वें स्वतंत्रता वर्ष में प्रवेश कर रहा है। अंग्रेजों को भारत छोड़े तकरीबन 69 साल हो गए लेकिन आज भी गुलामी की एक निशानी हमारे देश में मौजूद है। आज भी एक रेलवे ट्रैक ब्रिटेन के कब्जे में है। नैरो गेज (छोटी लाइन) के इस ट्रैक का इस्तेमाल करने वाली इंडियन रेलवे हर साल एक करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी ब्रिटेन की एक प्राइवेट कंपनी को देनी पड़ती है। इस ट्रैक पर सिर्फ एक ट्रेन …

– इस रेल ट्रैक पर शकुंतला एक्सप्रेस के नाम से सिर्फ एक पैसेंजर ट्रेन चलती है।
– अमरावती से मुर्तजापुर के 189 किलोमीटर के इस सफर को यह 6-7 घंटे में पूरा करती है।
– अपने इस सफर में शकुंतला एक्सप्रेस अचलपुर, यवतमाल समेत 17 छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकती है।
– 100 साल पुरानी 5 डिब्बों की इस ट्रेन को 70 साल तक स्टीम का इंजन खींचता था। इसे 1921 में ब्रिटेन के मैनचेस्टर में बनाया गया था।
– 15 अप्रैल 1994 को शकुंतला एक्प्रेस के स्टीम इंजन को डीजल इंजन से रिप्लेस कर दिया गया।
– इस रेल रूट पर लगे सिग्नल आज भी ब्रिटिशकालीन हैं। इनका निर्माण इंग्लैंड के लिवरपूल में 1895 में हुआ था।
– 7 कोच वाली इस पैसेंजर ट्रेन में प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा लोग ट्रेवल करते हैं।
आगे की स्लाइड्स में देखिए
देनी पड़ती है 1 करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी
loading…


http://nationfirst.online/wp-content/uploads/2016/08/narrow_gauge_train_in_chh.jpghttp://nationfirst.online/wp-content/uploads/2016/08/narrow_gauge_train_in_chh-150x150.jpgadminspecialइतिहासदेशभारत 70वें स्वतंत्रता वर्ष में प्रवेश कर रहा है। अंग्रेजों को भारत छोड़े तकरीबन 69 साल हो गए लेकिन आज भी गुलामी की एक निशानी हमारे देश में मौजूद है। आज भी एक रेलवे ट्रैक ब्रिटेन के कब्जे में है। नैरो गेज (छोटी लाइन) के इस ट्रैक का इस्तेमाल...nation first, truly Indian